Welcome to GKM Media. Watch live TV channel or listen radio station.

Our Contacts

12370 92 Ave, Surrey, BC V3V 1G4, Canada

info@gkmmedia.com

+16047238027

Category: ukrain

Russian President Putin attends St. Petersburg International Economic Forum
ukrain

Putin says Russia positions nuclear bombs in Belarus as warning to West

Russian President Putin attends St. Petersburg International Economic Forum
Russian President Vladimir Putin delivers a speech during a session of the St. Petersburg International Economic Forum (SPIEF) in Saint Petersburg, Russia, June 16, 2023. Sputnik/Ramil Sitdikov/Host photo agency via REUTERS- FILE PHOTO
  • Putin confirms Russian nuclear warheads in Belarus
  • Says more will be delivered by end of the year
  • Says Moscow sees no need to use nuclear weapons for now
  • Says ‘Screw the West’ on arms reduction talks

June 16 (Reuters) – President Vladimir Putin said on Friday that his deployment of tactical nuclear weapons to Belarus, something he confirmed for the first time had already happened, was a reminder to the West that it could not inflict a strategic defeat on Russia.

Speaking at Russia’s flagship economic forum in St Petersburg, Putin said Russian tactical nuclear warheads had already been delivered to close ally Belarus, but stressed he saw no need for Russia to resort to nuclear weapons for now.

“As you know we were negotiating with our ally, (Belarusian President (Alexander) Lukashenko, that we would move a part of these tactical nuclear weapons to the territory of Belarus – this has happened,” said Putin.

“The first nuclear warheads were delivered to the territory of Belarus. But only the first ones, the first part. But we will do this job completely by the end of the summer or by the end of the year.”

The move, Moscow’s first deployment of such warheads – shorter-range nuclear weapons that could potentially be used on the battlefield – outside Russia since the fall of the Soviet Union was intended as a warning to the West about arming and supporting Ukraine, the Russian leader said.

“…It is precisely as an element of deterrence so that all those who are thinking about inflicting a strategic defeat on us are not oblivious to this circumstance,” said Putin, using a diplomatic term for a defeat so severe that Russian power would be diminished on the world stage for decades.

Lukashenko, a staunch ally of Putin, said late on Tuesday his country had started taking delivery of Russian tactical nuclear weapons that included some three times more powerful than the atomic bombs the U.S. dropped on Japan in 1945.

The Russian leader announced in March he had agreed to deploy tactical nuclear weapons in Belarus, pointing to the U.S deployment of such weapons in a host of European countries over many decades.

PUTIN SAYS WEST WANTS STRATEGIC DEFEAT

The United States has criticised Putin’s decision but has said it has no intention of altering its own stance on strategic nuclear weapons and has not seen any signs that Russia is preparing to use a nuclear weapon.

The Russian step is nonetheless being watched closely by Washington and its allies as well as by China, which has repeatedly cautioned against the use of nuclear weapons in the war in Ukraine.

Putin said the West was doing everything it could to inflict a strategic defeat on Russia in Ukraine where Moscow is locked in the biggest land war in Europe since World War Two after invading its neighbour last year in what it called “a special military operation.”

But Russia had no need to resort to nuclear weapons for now, said Putin, signalling no change in Moscow’s nuclear posture which only envisages such a move if the existence of the Russian state is threatened.

“Nuclear weapons have been made to ensure our security in the broadest sense of the word and the existence of the Russian state, but we…have no such need (to use them),” Putin said.

But he said talks with the West to reduce Russia’s vast nuclear arsenal, the world’s largest, were a non-starter.

“Just talking about this (the potential use of nuclear weapons) lowers the nuclear threshold. We have more than NATO countries and they want to reduce our numbers. Screw them,” said Putin.

Sounding defiant as he addressed his country’s political and business elite, he said a Ukrainian counteroffensive against Russian forces in Ukraine had so far not had any meaningful success. Kyiv’s forces were suffering heavy losses and had “no chance” against Russia’s military, he said.

Ukraine would soon run out of its own military equipment, making it totally reliant on hardware supplied by the West, undermining its ability to fight for long, he suggested.

Recalling his stated objectives at the start of the war to “demilitarise” and “denazify” Ukraine, Putin said:

“As for demilitarisation, soon Ukraine will stop using its own equipment altogether. There’s nothing left. Everything on which they fight and everything that they use is brought in from the outside. Well, you can’t fight like that for long.”

PUTIN GIVES WARNING ON F-16S

Independent military analysts say Ukraine has outperformed Russia’s much larger army in nearly 16 months of war, forcing it into major retreats around the cities of Kyiv, Kharkiv and Kherson.

Ukraine’s military chiefs said on Friday that advancing Ukrainian troops were facing “desperate resistance” from Russian forces around the city of Bakhmut, which Russia captured last month after the longest battle of the war.

Ukraine says it has recaptured seven villages and 100 square km (38 square miles) in the early stages of its counteroffensive.

But Russia’s Defence Ministry said on Friday its forces had repelled numerous attempted counterattacks by the Ukrainian army at different frontline locations in the last 24 hours, inflicting severe losses on Kyiv’s forces.

Putin said Western-supplied hardware such as German-made Leopard tanks was regularly destroyed and if Kyiv got U.S.-made F-16 fighter jets from its allies, they would go up in flames too.

“F-16s will also be burning, there is no doubt. But if they will be stationed outside Ukraine and used in combat operations we will have to look at how to engage and where to engage those assets being used in combat operations against us.”

That, he said, represented “a serious danger” of dragging NATO further into the conflict.

internationalukrain

Putin said to Xi Jinping, he will discuss your suggestions to end the war in Ukraine

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि वह चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ यूक्रेन संघर्ष का हल निकालने के लिए 12 सूत्री बीजिंग प्लान पर चर्चा करेंगे.

पुतिन ने कहा है कि इस संघर्ष का हल निकालने के लिए वह बातचीत के लिए हमेशा तैयार हैं.

चीन ने पिछले महीने यूक्रेन युद्ध ख़त्म करने के लिए 12 सूत्री बीजिंग प्लान जारी किया था जिसमें शांतिवार्ता शुरू करने और शत्रुतापूर्ण गतिविधियों को विराम देना शामिल था.

हालांकि, अमेरिका ने शुक्रवार को कहा है कि ये पीस प्लान टालमटोल की रणनीति हो सकती है.

अमेरिकी विदेश मंत्री ने दी चेतावनी

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने दुनिया से इस ‘पीस प्लान’ यानी शांति योजना को सतर्कता के साथ देखने की अपील की है.

उन्होंने कहा, “दुनिया को रूस की ओर से इस युद्ध को अपनी शर्तों पर ख़त्म करने के लिए उठाए गए चीन या किसी अन्य देश की ओर से समर्थित रणनीतिक कदम के चक्कर में नहीं पड़ना चाहिए.”

उन्होंने ये भी कहा कि ‘यूक्रेन की ज़मीन से रूसी सैन्य बलों को हटाए बग़ैर युद्ध विराम की बात करना रूसी आक्रमण को समर्थन देने जैसा होगा.’

चीन ने कुछ दिनों पहले सार्वजनिक हुए बीजिंग प्लान में स्पष्ट रूप से ये नहीं कहा है कि रूसी सैन्य बलों को यूक्रेन से बाहर निकलना चाहिए.

जबकि यूक्रेन सरकार का कहना है कि किसी भी बातचीत के लिए पहली शर्त रूसी बलों का यूक्रेन से बाहर निकलना है.

चीन के 12 सूत्री कार्यक्रम में सभी देशों की संप्रभुता का सम्मान करने की बात कही गयी है.

इसके साथ ही कहा गया है कि सभी पक्षों को तार्किकता के साथ संयम से काम लेते हुए धीरे-धीरे शांति की ओर बढ़ना चाहिए.

बीजिंग प्लान में एकतरफ़ा प्रतिबंधों की भी निंदा की गयी है जिसे यूक्रेन के पश्चिमी सहयोगियों की निंदा के रूप में देखा गया है.

शी जिनपिंग का शानदार स्वागत

सोमवार को रूसी सेना के एक बैंड ने शी जिनपिंग का भव्य अंदाज़ में स्वागत किया.

इसके साथ ही रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने चीन की ओर से ‘न्याय के सिद्धांतों का पालन करने’ और सभी देशों के लिए सुरक्षा की मांग करने के लिए उनकी तारीफ़ की.

इसके उत्तर में शी जिनपिंग ने कहा, “आपके मज़बूत नेतृत्व में रूस ने विकास का एक लंबा सफर तय किया है. मुझे विश्वास है कि रूसी जनता आपको अपना समर्थन देती रहेगी.”

शी जिनपिंग के मॉस्को पहुंचने से पहले पुतिन ने चीन के पीपुल्स डेली अख़बार में लिखा है कि दोनों देश अमेरिका की आक्रामक नीति के बावजूद कमज़ोर नहीं होंगे.

वहीं, यूक्रेनी नेता सार्वजनिक रूप से उन बातों को रेखांकित कर रहे है जिन पर चीन और यूक्रेन एक मत हैं, जैसे संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान.

हालांकि, निजी तौर पर वे यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमीर ज़ेलेंस्की और शी जिनपिंग के बीच बैठक या एक फोन कॉल के लिए कोशिशें कर रहे हैं.

यूक्रेन की चिंता

कीएव में इन दिनों चिंता की वजह रूस को चीन की ओर से हथियार और गोला-बारूद मिलने से जुड़ी आशंकाएं हैं.

पिछले कुछ दिनों में आशंकाएं जताई गयी हैं कि चीन रूस को जारी अपने समर्थन का दायरा बढ़ाकर गोला-बारूद दे सकता है जिनमें आर्टिलरी शैल्स शामिल हो सकते हैं.

यूक्रेन की राष्ट्रीय सुरक्षा और रक्षा परिषद के सचिव ओलेक्सी डानिलोव कहते हैं, “अगर चीन खुलकर रूस को हथियार देना शुरू करता है तो वह आक्रमणकारी के साथ खड़ा होगा.”

ब्रिटेन स्थित चैटम हाउस में चीन से जुड़े मामलों की जानकार यू जी के मुताबिक़, रूस के साथ अपने रिश्तों को स्थायित्व देना चीन के हित में है क्योंकि उसकी चीन के साथ 4300 किलोमीटर लंबी सीमा-रेखा है.

रूस चीन की विशाल अर्थव्यवस्था के लिए तेल का स्रोत भी है. और इसके साथ ही उसे अमेरिका के ख़िलाफ़ खड़े हुए साझेदार के रूप में भी देखा जाता है.

यू बताती हैं कि शी जिनपिंग ने ईरान और सऊदी अरब के बीच मध्यस्थता करके कूटनीतिक जीत हासिल की है. इस मध्यस्थता के बाद दोनों देशों के बीच कूटनीतिक रिश्ते बहाल हो गए हैं.

उनके लिए ये रूस और यूक्रेन के बीच मध्यस्थता करने की संभावनाएं तलाशने का अवसर हो सकता है.

मॉस्को में व्लादिमीर पुतिन के साथ शी जिनपिंग
इमेज कैप्शन,मॉस्को में व्लादिमीर पुतिन के साथ शी जिनपिंग

शी जिनपिंग के लिए परोसा गया सेवन कोर्स मील

सोमवार शाम मॉस्को में शी जिनपिंग को सेवन कोर्स मील परोसा गया जिसमें उत्तरी रूस में बहने वाली पेछोरा नदी की नेलमा मछली शामिल थी.

इसके साथ ही एक पारंपरिक सी-फूड सूप और क्वेल के साथ पैनकेक्स शामिल थे. और इन तमाम चीज़ों के साथ उन्हें रूसी वाइन परोसी गयी थी.

रूसी राष्ट्रपति कार्यालय के प्रवक्ता दिमित्री पेस्कोव ने संकेत दिया था कि इस डिनर के दौरान रूस की ओर से यूक्रेन में की गयी कार्रवाई की वजहों को विस्तृत ढंग से समझाया जाएगा.

रूस और चीनी डेलिगेट्स के बीच मंगलवार के दिन वार्ताओं का दौर चलेगा.

ये बैठकें अंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायालय की ओर से रूसी राष्ट्रपति के ख़िलाफ़ लगाए गए युद्ध अपराधों के मामले में गिरफ़्तारी का वारंट जारी किए जाने के कुछ दिन बाद ही हो रही हैं.

इस मतलब ये है कि पुतिन को 123 देशों में गिरफ़्तार किया जा सकता है. हालांकि, रूस और चीन इन देशों में शामिल नहीं हैं.

अमेरिकी विदेश मंत्री ब्लिंकेन ने कहा है कि अंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायालय का फ़ैसला आने के तुरंत बाद शी जिनपिंग का रूस जाना ये सुझाता है कि चीन यूक्रेन में हुए अत्याचारों के लिए रूस को जवाबदेह ठहराने की ज़िम्मेदारी महसूस नहीं करता है.

पश्चिमी देशों के नेता पिछले साल फरवरी के बाद से रूस को दुनिया में अलग-थलग करने की कोशिश कर रहे हैं.

लेकिन अब तक पश्चिमी देश इस मुद्दे पर वैश्विक आम राय बनाने में सफल नहीं हुए हैं. और चीन, भारत समेत कई अफ़्रीकी देशों ने अब तक पुतिन की आलोचना नहीं की है.

सोशल मीडिया पर शेयर हो रहे कुछ वीडियो में कई धमाके होते दिख रहे हैं
इमेज कैप्शन,सोशल मीडिया पर शेयर हो रहे कुछ वीडियो में कई धमाके होते दिख रहे हैं

क्राइमिया में मिसाइल हमले

शी जिनपिंग के इस दौरे के बीच ही क्राइमिया में ताबड़तोड़ मिसाइल हमले होने की ख़बर आई है.

यूक्रेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि रूस के क़ब्ज़े वाले क्राइमिया के उत्तरी हिस्से में धमाके से ट्रेन के ज़रिए लाई जा रही रूसी मिसाइलें नष्ट हो गई हैं.

रूस की ओर से नियुक्त ज़ानकोई शहर के प्रमुख आइहोर आइविन ने कहा कि इलाके में ड्रोन से हमला किया गया है.

यूक्रेन ने धमाकों की जानकारी दी, लेकिन उसने साफ़-साफ़ ये नहीं बताया कि इन हमलों के पीछे उसका हाथ है.

अगर इसकी पुष्टि होती है तो साल 2014 में क्राइमिया पर रूस के नियंत्रण के बाद ये यूक्रेन की सेना का इस तरह का पहला आक्रमण होगा.

यूक्रेन के रक्षा मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि ”धमाकों के ज़रिए रूस का विसैन्यीकरण (डीमिलिटराइज़ेशन) जारी है और इससे यूक्रेन के क्राइमिया प्रायद्वीप को मुक्त कराने की प्रक्रिया शुरू हो रही है.”

यूक्रेन ने कहा कि ये मिसाइलें काला सागर में रूस के बेड़े में इस्तेमाल की जानी थी.

रूस के अधिकारी आइविन ने कहा कि एक 33 वर्षीय व्यक्ति को गिराए गए ड्रोन से लगी चोट के बाद अस्पताल ले जाया गया. हालांकि, उन्होंने ये जानकारी नहीं दी कि किसी सैन्य ठिकाने को निशाना बनाया गया है या नहीं.

आइविन ने स्थानीय मीडिया की रिपोर्टों का हवाला देते हुए कहा कि कई इमारतों में आग लगी है और पावर ग्रिड क्षतिग्रस्त हुए हैं.

इससे पहले रूस ने बीते साल अक्टूबर में यूक्रेन पर ड्रोन हमले करने का आरोप लगाया था. उस समय रूस ने कहा था कि पोर्ट सिटी सेवस्तोपोल में यूक्रेन के 9 ड्रोन हमलों से युद्धपोत क्षतिग्रस्त हुआ. हालांकि, यूक्रेन ने उस हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली थी.